3000 रूपये मासिक पेंशन पाने के लिये श्रमिक जल्द करें ऑनलाइन आवेदन

jynews e shram 1

नई दिल्ली। नेटवर्क

भारत सरकार ने असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले लोगों के लिए ई-श्रम पोर्टल की शुरुआत कर दी है। यहां श्रमिक अपना कार्ड बनवा सकते हैं। इन कार्ड धारकों को सरकार की ओर से मदद दी जाएगी और इन्हें सरकारी योजनाओं का लाभ भी मिलेगा। यहां देश के हर कामगार का रिकार्ड होगा। करोड़ों कामगारों को नई पहचान मिलेगी।

ई-श्रम कार्ड कैसे बनवाएं और इसके क्या है फायदे

असंगठित क्षेत्र के करीब 38 करोड़ मजदूरों के लिए 12 अंकों का यूनिवर्सल अकाउंट नंबर (यूएएन) और ई-श्रम कार्ड जारी करेगा, जो पूरे देश में मान्य होगा।

ई-श्रम कार्ड से देश के करोड़ों असंगठित कामगारों को एक नई पहचान मिलेगी। प्रवासी वर्कर्स को ट्रेक करने में मदद मिलेगी। मजदूरों का डेटा और जानकारी एकत्र की जाएगी।

सरकार की ओर से देश के सभी श्रमिकों को पहचान पत्र और आधार कार्ड की तर्ज पर उनके काम के आधार पर कैटेगेरी में बांटा जाएगा। इसके जरिए उन्हें सरकारी योजनाओं का फायदा तो होगा ही साथ में रोजगार में मदद मिलेगी।

2 लाख रुपये का फ्री एक्सीडेंटल बीमा की सुविधा

अगर कोई श्रमिक ई-श्रम पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन कराता है तो उसे दो लाख रुपये के एक्सिडेंटल इंश्योरेंस का लाभ मिलेगा। इसमें एक साल का प्रीमियम सरकार की ओर से दिया जाएगा।

रजिस्टर्ड श्रमिक यदि दुर्घटना का शिकार होते हैं तो उसकी मृत्यु या फिर पूर्ण विकलांगता की स्थिति में वह 2 लाख रुपये का हकदार होंगे। वहीं, आंशिक रूप से विकलांग होने पर इंश्योरेंस योजना के तहत एक लाख रुपये दी जाएगी।

श्रम कार्ड के लिए कैसे करें रजिस्ट्रेशन?

1 .किसी भी ब्राउज़र के सर्च बार में पोर्टल पेज का आधिकारिक वेब पता https://eshram.gov.in/home टाइप करें.

इसके बाद होमपेज पर, “ई-श्रम पर पंजीकरण करें” पर लिंक करें.
इसके बाद सेल्फ रजिस्ट्रेशन https://register.eshram.gov.in/#/user/self क्लिक करें.
सेल्फ रजिस्ट्रेशन पर यूजर को अपना आधार लिंक्ड मोबाइल नंबर डालना होगा.
कैप्चा दर्ज करें और चुनें कि क्या वे कर्मचारी भविष्य निधि संगठन या कर्मचारी राज्य बीमा निगम विकल्प के सदस्य हैं और ओटीपी भेजें पर क्लिक करें।
इसके बाद पंजीकरण प्रक्रिया को पूरा करने के लिए बैंक खाता डिटेल आदि दर्ज दें और आगे की प्रक्रिया का पालन करें।
7.अपने निकटतम सीएससी पर जा सकते हैं और बायोमेट्रिक प्रमाणीकरण प्रक्रिया के माध्यम से पंजीकरण कर सकते हैं।

ई-श्रम कार्ड बनने के बाद क्या श्रमिक के बैंक खाते से कटेंगे पैसे !
3000 हजार पेंशन पाने के लिये आवेदन की प्रक्रिया
योजना का नाम प्रधान मंत्री श्रम योगी मान-धन पेंशन योजना स्वैच्छिक और अंशदायी पेंशन योजनाएं

लाभार्थी की प्रवेश आयु के आधार पर मासिक अंशदान 55 रुपये से 200 रुपये तक होता है।

इस योजना के तहत, लाभार्थी द्वारा मासिक 50ः अंशदान देय है और केंद्र सरकार द्वारा इसमें बराबर का योगदान दिया जाता है

पात्रता
भारतीय नागरिक होना चाहिए

असंगठित कामगार (फेरी वाले, कृषि संबंधी काम, निर्माण स्थल पर काम करने वाले मजदूर, चमड़ा उद्योग में काम करने वाले, हथकरघा, मिड-डे मील, रिक्शा या ऑटो व्हीलर, कूड़ा बीनने वाले, बढ़ई, मछुआरे आदि के रूप में काम करने वाले कामगार आदि)

18-40 वर्ष का आयु वर्ग

मासिक आय 15,000/- रुपये से कमहो और EPFO/ESIC/NPS (सरकारी वित्त पोषित) स्कीम का सदस्य नहीं है।

पेंशन पाने के लिये इस बेवसाइड पर क्लिक करें- https://maandhan.in/

कैसे मिलेगा लाभ

60 वर्ष की आयु प्राप्त करने के बाद, लाभार्थी 3,000/- रुपये की न्यूनतम सुनिश्चित मासिक पेंशन प्राप्त करने के हकदार हैं।

लाभार्थी की मृत्यु पर, पति या पत्नी 50ः मासिक पेंशन के लिए पात्र हैं।

यदि पति और पत्नी, दोनों इस योजना में शामिल होते हैं, तो वे 6000/- रुपये संयुक्त रूप से मासिक पेंशन के पात्र होंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *