Sun. Jun 23rd, 2024

जल्द आने वाली है पीएम किसान योजना की 12वीं क़िस्त, ई-केवाईसी है जरूरी

pm kisan
pm kisan

नई दिल्ली। नेटवर्क

किसानों के लिए सरकार ने पीएम किसान योजना की शुरुआत की है। इस योजना के तहत किसानों के खाते में 2000-2000 की तीन किस्त भेजी जाती है। अब तक इस योजना के तहत 11 क़िस्त सरकार द्वारा ट्रांसफर की जा चुकी है। अब सभी किसानों को 12वीं क़िस्त का इंतजार है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक 12वीं क़िस्त सितंबर माह के अंत तक किसानों के खाते में आ सकती है।

ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Group को Join करें
ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Whatsapp Channel को Follow करें
ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Group को Join करें

ध्यान दें किसानों को 12वीं किस्त का लाभ तभी मिलेगा जब 31 जुलाई से पहले वे ई-केवाईसी पूरी कर लेंगे। यदि आप ऐसा नहीं करते है तो आपको 12वीं क़िस्त का लाभ नहीं मिलेगा। कुछ किसान ऐसे भी है जिन्हें 11वीं क़िस्त का लाभ नहीं मिला है। ऐसे में उन्हें 11वीं और 12वीं क़िस्त का लाभ एक साथ सितंबर माह में यानी 4000 रूपये उन्हें मिलेंगे। पीएम किसान योजना का मकसद देश के किसानों को आर्थिक रूप से मजबूत बनाना है।

जाने वेबसाइट पर विभिन्न स्टेटस का मतलब

केंद्र सरकार ने 12वीं क़िस्त की प्रक्रिया शुरू कर दी है। आप अपने रजिस्ट्रेशन नंबर या मोबाइल नंबर के आधार पर बीच-बीच में अपना स्टेटस चेक कर सकते है। केंद्र की इस योजना में राज्यों का अप्रूवल भी जरूरी होता है। पोर्टल पर स्टेटस चेक करने के दौरान यदि आपको वेटिंग फॉर अप्रूवल बाय स्टेट लिखा आता है तो समझ जाइए कि अभी आपकी क़िस्त के लिए राज्य सरकार ने अप्रूवल नहीं दिया है।

वहीं अगर स्टेटस चेक करने पर आरएफटी यानी रिक्वेस्ट फॉर ट्रांसफर लिखा है तो इसका मतलब राज्य की तरफ से लाभार्थी का डाटा चेक किया जा रहा है। यदि डाटा सही पाया जाता है तो राज्य सरकार केंद्र को अनुरोध करते है कि लाभार्थी के अकाउंट में क़िस्त का पैसा भेज दिया जाए.

By Bhoodev Bhagalia

जागरूक यूथ न्यूज डिजिटल में सीनियर डिजिटल कंटेंट प्रोड्यूसर है। पत्रकारिता की शुरुआत हिन्दुस्तान अखबार, अमर उजाला, समर इंडिया होते हुए जागरूक यूथ न्यूज में पहुंचा। लगातार कुछ अलग और बेहतर करने के साथ हर दिन कुछ न कुछ सीखने की कोशिश। राजनीति, अपराध और पॉजिटिव खबरों में रुचि।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *