Fri. Jun 21st, 2024

schools closed : दिल्ली, यूपी व हरियाणा के इतने दिनों के लिये स्कूल बंद जानें क्या है वजह

school closed
school closed

schools closed , नोएडा : नोएडा के जिलाधिकारी ने स्कूली बच्चों के लिए हितकारी फैसला लिया है। नोएडा डीएम मनीष वर्मा ने आज मंगलवार को एक आदेश जारी किया है,जिसके तहत सभी स्कूलों में प्री-स्कूल से लेकर नौवीं तक की क्लास 10 नवंबर तक फिजिकल क्लास बंद रहेंगी। दिवाली से पहले देश की राजधानी दिल्ली व उसके आस-पास के जिले खराब वायु गुणवत्ता से जूझ रहे हैं। जानकारी दे दें कि गौतमबुद्धनगर यानी नोएडा की । लेवल 400 के पार चली गई है। ऐसे में ये बच्चों के लिए और भी ज्यादा खतरनाक है। इसी को देखते हुए

DM ने जारी किया आदेश

नोएडा डीएम ने जारी अपने आदेश में कहा है कि खराब एयर क्वालिटी को देखते हुए जिले के सभी स्कूलों को ग्रेडेड रेस्पॉन्स एक्शन प्लान स्टेज-4 के तहत प्री स्कूल से लेकर 9वीं तक की कक्षाओं के लिए 10 नवंबर तक ऑफलाइन क्लास नहीं चलेंगे। बच्चों के लिए स्कूल को ऑफलाइन कक्षा की जगह ऑनलाइन क्लासेज करना होगा। आदेश में आगे कहा गया कि दिल्ली-एनसीआर में एयर क्वालिटी सूचकांक गंभीर श्रेणी में पहुंच गया और फिलहाल ।फप् लेवल 400 से अधिक पहुंच गया है। परिस्थिति को देखते हुए और एयर क्वालिटी में सुधार के लिए एयर क्वॉलिटी मैनेजमेंट कमिशन यानी एक्यूएमसी के 5 नवंबर के आदेश को लागू किया गया है। इसी के तहत ळत्।च् का चौथा स्टेज लागू किया जा रहा है।

ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Group को Join करें
ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Whatsapp Channel को Follow करें
ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Group को Join करें

हरियाणा के इन जिलों में भी स्कूल बंद

जानकारी के लिए बता दें कि पूरे दिल्ली एनसीआर में एयर क्वालिटी का हाल-बेहाल है। इसी के मद्देनजर गुरुग्राम में भी प्रशासन ने कक्षा 5वीं तक के सभी स्कूलों में छुट्टी घोषित कर दी है। बता दें कि प्रशासन ने नर्सरी से 5वीं कक्षा तक की सभी कक्षाएं अगले आदेश तक निलंबित की हैं। एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण से स्कूली बच्चों को बचाने के लिए यह फैसला लिया गया है। वहीं, फरीदाबाद के डिप्टी कमिश्नर विक्रम सिंह ने भी कक्षा 1 से 5 तक के सभी स्कूलों को 7 से 12 नवंबर तक बंद करने का आदेश जारी किया है।

गुरुग्राम में 5 तक के सभी स्कूल बंद, जारी हुए आदेश

प्रदूषण ने दिल्ली एनसीआर समेत कई शहरों भयानक रूप अपना रखा है। गुरुग्राम बढ़ते वायु प्रदूषण के कारण प्रशासन ने कक्षा 5 तक के सभी स्कूलों में छुट्टी की घोषणा की है। गुरुग्राम प्रशासन ने नर्सरी से पांचवीं कक्षा तक की सभी कक्षाएं अगले आदेश तक निलंबित कर दी हैं। एनसीआर में बढ़ते प्रदूषण से स्कूली बच्चों को बचाने के लिए यह फैसला लिया गया है। फरीदाबाद के डिप्टी कमिश्नर विक्रम सिंह ने भी कक्षा एक से पांच तक के सभी स्कूलों को 7 से 12 नवंबर तक बंद करने का आदेश दिया है।

 

इस संबंध में आदेश सोमवार 6 नवंबर को गुरुग्राम जिला आपदा प्रबंधन प्राधिकरण के अध्यक्ष और डीसी निशांत कुमार यादव द्वारा जारी किया गया है। साथ ही, प्रशासन ने स्कूलों को ऑनलाइन पढ़ाई जारी रखने का आदेश दिया है ताकि छात्रों की पढ़ाई बाधित न हो। जिले में पिछले एक सप्ताह से वायु गुणवत्ता सूचकांक बेहद खतरनाक बना हुआ है। 6 नवंबर को यह 412 पर पहुंच गया, जबकि औद्योगिक जिला देश के सबसे प्रदूषित शहरों में पांचवें स्थान पर था। उपायुक्त निशांत कुमार यादव ने बताया कि वायु गुणवत्ता सूचकांक में लगातार हो रही वृद्धि के कारण स्थिति जीआरएपी चार स्तर पर पहुंच गयी है।

इससे पहले, हरियाणा सरकार ने एनसीआर में उपायुक्तों को अपने जिलों में स्थिति का आकलन करने और स्कूलों को बंद करने पर निर्णय लेने के लिए कहा था। पिछले कुछ दिनों से, गुरुग्राम सहित कुछ जिलों में वायु गुणवत्ता सूचकांक (एक्यूआई) गंभीर हो गया है।

इस बीच, केंद्र सरकार ने दिल्ली-एनसीआर को प्रदूषण नियंत्रण के अंतिम चरण के तहत सख्त उपाय लागू करने का निर्देश दिया है। सरकार ने प्रदूषण फैलाने वाले ट्रकों और वाणिज्यिक चार पहिया वाहनों के दिल्ली में प्रवेश पर तत्काल प्रतिबंध लगा दिया है। केवल संपीड़ित प्राकृतिक गैस, इलेक्ट्रिक वाहनों और अन्य राज्यों से भारत स्टेज VI उत्सर्जन मानदंडों के अनुरूप चलने वाले वाहनों को शहर में प्रवेश की अनुमति दी जाएगी। यह कदम क्षेत्र के वायु प्रदूषण में वाहनों के उत्सर्जन को कम करने के लिए उठाया गया है। साथ ही दिल्ली-एनसीआर में रैखिक सार्वजनिक परियोजनाओं से संबंधित निर्माण गतिविधियों पर प्रतिबंध लगाने का आदेश दिया गया है। सरकार ने फिजिकल कक्षाओं को ऑनलाइन मोड पर शिफ्ट करने को भी कहा है। वहीं 10वीं और 12वीं की कक्षाएं ऑफलाइन संचालित की जाएंगी

By Bhoodev bhagalia

Bhoodev भूदेव जागरूक यूथ न्यूज अखबार व वेबसाइड में सीनियर कंटेंट एडिटर के पद पर कार्यरत है। पिछले 10 वर्षों से मीडिया क्षेत्र प्रिन्ट और डिजिटल में काम कर रहे है। पत्रकारिता में पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद अपने करियर की शुरूआत वर्ष 2012 में हिन्दुस्तान समाचार पत्र मुरादबाद से की। इसके बाद अमर उजाला में भी अपनी सेवाएं दी। प्रिंट मीडिया में रहते हुए डेस्क और न्यूज एडिटिंग में काफी समय तक काम किया है।

Related Post