Mon. Oct 3rd, 2022

नई दिल्ली। नेटवर्क

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आज कॉमनवेल्थ गेम्स में भाग लेने वाले भारतीय खिलाड़ियों के साथ बातचीत की. इस मौके पर उनके साथ केंद्रीय खेल मंत्री अनुराग ठाकुर और खेल राज्य मंत्री निसिथ प्रमाणिक भी उपस्थित थे. पीएम मोदी ने इस मौके पर कहा कि पिछले कुछ हफ्तों में देश ने खेल के मैदान में दो बड़ी उपलब्धियां प्राप्त की है. उन्होंने कहा कि देश को अपने पदकवीरों पर गर्व है. उन्होंने यहां लड़कियों की जमकर तारीफ करते हुए कहा कि बॉक्सिंग-जूडो-कुश्ती में बेटियों ने जो किया है, वो अद्भुत है.

पीएम मोदी के भाषण की बड़ी बातें

पीएम ने कहा, आप सभी देश को सिर्फ एक मेडल नहीं देते, सेलिब्रेट करने का, गर्व करने का अवसर ही नहीं देते, बल्कि एक भारत, श्रेष्ठ भारत की भावना को भी सशक्त करते हैं. आप खेल में ही नहीं, बाकी सेक्टर में भी देश के युवाओं को बेहतर करने के लिए प्रेरित करते हैं.
उन्होंने कहा कि तिरंगे की ताकत क्या होती है, ये हमने कुछ समय पहले ही यूक्रेन में देखा है. तिरंगा युद्धक्षेत्र से बाहर निकलने में भारतीयों का ही नहीं, बल्कि दूसरे देशों के लोगों के लिए भी सुरक्षा कवच बन गया था.’

प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि सीडब्ल्यूजी में भारत का प्रदर्शन ऐतिहासिक है. देश अमृतकाल में प्रवेश कर रहा है. चेस में भारत का बेहतरीन प्रदर्शन रहा है. भारत नए खेलों में भी अपनी छाप छोड़ रहा है.

पीएम ने कहा कि विजेताओं से बात करना प्रेरक होता है. प्लेयर्स का हौसला ही उनकी पहचान है. सीडब्ल्यूजी में भारत का प्रदर्शन ऐतिहासिक है.
खिलाड़ियों की तारीफ करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा, ‘हर खिलाड़ी प्रशंसा का पात्र है. बॉक्सिंग हो, जूडो हो, कुश्ती हो, जिस प्रकार बेटियों ने डॉमिनेट किया, वो अद्भुत है. पिछली बार की तुलना में इस बार हमने 4 नए खेलों में जीत का नया रास्ता बनाया है.

उन्होंने कहा कि लॉन बाउल्स से लेकर एथलेटिक्स तक, अभूतपूर्व प्रदर्शन रहा है. इस प्रदर्शन से देश में नए खेलों के प्रति युवाओं का रुझान बहुत बढ़ने वाला है.
उन्होंने कहा, ‘आप सभी तो वहां मुकाबला कर रहे थे, लेकिन यहां करोड़ों भारतीय रतजगा कर रहे थे. देर रात तक आपके हर एक्शन, हर मूव पर देशवासियों की नज़र थी. बहुत से लोग अलार्म लगाकर सोते थे कि आपके प्रदर्शन का अपडेट लेंगे.

पीएम ने कहा, ‘मुझे खुशी है कि खेलो इंडिया के मंच से निकले अनेक खिलाड़ियों ने इस बार बेहतरीन प्रदर्शन किया है.ज्व्च्ै का भी पॉजिटिव प्रभाव देखने को मिल रहा है. नए टैलेंट की खोज और उनको पोडियम तक पहुंचाने के हमारे प्रयासों को हमें और तेज़ करना है.

उन्होंने कहा कि पिछली बार मैंने आपसे देश के 75 स्कूलों, शिक्षण संस्थानों में जाकर बच्चों को प्रोत्साहित करने का आग्रह किया था. ‘मीट द चौंपियन’ अभियान के तहत अनेक साथियों ने व्यस्तताओं के बीच ये काम किया भी है. इस अभियान को जारी रखें.

पीएम मोदी ने कहा कि तिरंगे की ताकत क्या होती है, ये हमने कुछ समय पहले ही यूक्रेन में देखा है. तिरंगा युद्धक्षेत्र से बाहर निकलने में भारतीयों का ही नहीं, बल्कि दूसरे देशों के लोगों के लिए भी सुरक्षा कवच बन गया था.