Wed. Aug 10th, 2022
NIVASH

नई दिल्ली। नेटवर्क

जब भी बात बाजार से पैसा बनाने की होती है तो  15x15x15 फॉर्मूले का जिक्र जरूर आता है. मार्केट एक्सपर्ट कहते हैं कि इस फॉर्मूले की मदद से करोड़पति बना जा सकता है. आखिर ये फॉर्मूला है क्या और कैसे काम करता है. आइये विस्तार से इस पर नजर डालते हैं-

एक्सपर्ट कहते हैं कि लंबे समय में इक्विटी में निवेश करने पर अन्य संपत्तियों की तुलना में ज्यादा रिटर्न मिलता है. इक्विटी यानी शेयरों में निवेश करने का एक अच्छा माध्यम है म्‍युचुअल फंड. म्यूचुअल फंड में हम एसआईपी के माध्यम से हर महीने छोटी-छोटी रकम निवेश कर सकते हैं. और इसी एसआईपी निवेश से जुड़ा है  15x15x15 का फॉर्मूला.

क्या है फॉर्मूले का हिसाब
टैक्स एक्सपर्ट बताते हैं कि  15x15x15 म्यूचुअल फंडों में निवेश करने का एक शानदार फॉर्मूला है. फॉर्मूला कहता है कि अगर कोई व्‍यक्ति 15,000 रुपये का निवेश 15 साल के लिए म्यूचुअल फंडों में करता है और उस पर अगर 15 परसेंट का कम्पाउंड रिटर्न मिलता है तो 15 साल बाद उसका निवेश बढ़कर 1 करोड़ रुपये से ज्यादा का हो जाएगा. इसमें 15,000 रुपये महीने के हिसाब से 15 साल में आपका कुल निवेश होगा 27 लाख रुपये. और इस पर 15 परसेंट के हिसाब से कम्पाउंडिंग ब्याज की रकम होगी 73 लाख रुपये. और इस तरह कुल रकम हुई 1 करोड़ रुपये.

कम्पाउंडिंग यानी चक्रवृद्धि ब्याज
आपकी जमा पर जो ब्याज मिलता है उस ब्याज को मूलधन में मिलाकर मिले ब्याज को चक्रवृ्द्धि ब्याज यानी कम्पाउंडिंग कहते हैं. समय-समय पर अभी तक संचित हुए ब्याज को मूलधन में मिलाकर इस मिश्रधन पर ब्याज की गणना की जाती है तो इसे चक्रवृद्धि ब्याज कहते हैं. इस ऐसे भी समझ सकते हैं कि निवेश करने पर जो आपकी कमाई होती है, उसे भी फिर से निवेश करना कम्पाउंडिंग कहलाता है.

मार्केट एक्सपर्ट कहते हैं कि रईस बनने के लिए हमें किसी अच्‍छे समय या मुहूर्त का इंतजार नहीं करना चाहिए. आज से ही निवेश शुरू कर दें. बाजार अप हो या डाउन, आप किसी भी समय निवेश कर सकते हैं. आप जितने लंबे समय तक निवेश करेंगे, आपको कम्पाउंडिंग का लाभ भी उतना ही अधिक मिलेगा.