Sat. Aug 13th, 2022
कपिलदेव अग्रवाल

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में आईटीआई से जुड़कर युवाओं को जोड़कर सीधे रोजगार दिया जायेगा।
व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) कपिलदेव अग्रवाल ने मीडिया से बातचीत की और उन्होंने कहा कि व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग ने बीते सौ दिनों में तमाम कार्यक्रमों को कर युवाओं का विश्वास जीता है। युवाओं को औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों के माध्यम से दीर्घकालिक व्यावसायिक प्रशिक्षण दिलाने तथा उप्र कौशल विकास मिशन के तहत बड़े नामी कम्पनियों में प्रशिक्षण प्रदान कराने या फिर रोजगार के लिए सफल प्रयास किया गया है।

कपिलदेव अग्रवाल ने कहा कि मुख्यमंत्री शिशिक्षु प्रोत्साहन योजना में दस हजार युवाओं को अपरेनटिकशिप कराया गया है। जिसमें बहुत सारे युवाओं को अपरेनटिकशिप वाले कम्पनियों से रोजगार का आफर भी हुआ है। इसके अलावा बीते दिनों 15 नवीन निर्मित आईटीआई भवनों का लोकार्पण किया गया, जिसके कार्य पूरे हो चुके है।

उन्होंने आगामी योजनाओं पर कहा कि विभाग आगे बढ़ रहा है और अग्रिम योजना भी बनकर तैयार है। लोक कल्याण संकल्प पत्र 2022 में विश्वकर्मा तकनीकी उन्नयन कार्यक्रम को प्रारम्भ किये जायेगा। जिसमें प्रत्येक ब्लॉक में आईटीआई की स्थापना की जायेगी। आगे दस हजार युवाओं को विभिन्न कम्पनियों में रोजगार मुहैया कराना भी लक्ष्य है, जिसके लिए कम्पनियों से विभाग सम्पर्क में हैं।

उन्होंने आगे कहा कि ऐविपेशन सेक्टर में युवाओं का प्रशिक्षण, महिला संरक्षण गृह की संवासनियों एवं किशोर सुधार गृह के किशोरों के लिए विशेष प्रशिक्षण कार्यक्रम होंगे। जिससे वे अपने जीवन में सुधार ला सके।

उन्होंने कहा कि हेल्थ केयर के नये कोर्सेज में कस्टमाइज्ड का प्रशिक्षण कराया जाना तय हुआ है। नये क्षेत्रों में कौशल विकास की राह बनायी जायेगी। जिसमें ग्रीन ग्राब्स में आगे बढ़ने पर योजना तैयार हुई है। लाजिस्टिक सेक्टर की मांग को देखते हुए परिवहन विभाग के सहयोग से वाहन चालकों का प्रशिक्षण भी कराया जायेगा।