Sat. Aug 13th, 2022
Nutritious Flour Business

BUSINESS IDEA:  पौष्टिक आटे की शहर से लेकर गांवों तक भारी डिमांड है. दरअसल, बाजार में हेल्थ सप्लीमेंट के तौर पर खाद्य पदार्थों की मांग अब काफी ज्‍यादा है. पौष्टिक आटा इसी कैटेगरी का बिजनेस है. इस आटे से इम्युनिटी बढ़ती है. इसके साथ ही मोटापा और कोलेस्ट्राल को कम करने में यह मदद करता है और दिल, शुगर और ब्‍लड प्रेशर के मरीजों के लिए भी फायदेमंद है.

कैसे बनता है पौष्टिक आटा Nutritious Flour Business

सामान्य आटे का वैल्यू एडिशन कर इसे पौष्टिक आटे में तब्दील किया जाता है. इसे तैयार करने के लिए गेहूं को अंकुरित कराना पड़ता है. 12 घंटे तक पानी में रखने के बाद गेहूं को निकाल कर 12 घंटे छाया में रखना होता है. इसके बाद इसे सुखाकर पीसते हैं. 700 ग्राम आटे में 50 ग्राम सहजन के पत्ते का पाउडर, 100 ग्राम जई का आटा, 50 ग्राम मेथी पत्ते का पाउडर या मेथी का पाउडर, 25 ग्राम अश्वगंधा और 25 ग्राम दालचीनी का पाउडर डालकर पौष्टिक आटा तैयार किया जाता है.

लागत

पौष्टिक आटे के बिजनेस की खास बात यह है कि इसे बहुत कम लागत में शुरू किया जा सकता है. गेहूं और अन्‍य चीजों की पिसाई के लिए आटा चक्‍की लगानी होगी. इसके लिए शुरुआत में बहुत बड़ी चक्‍की लागने की आवश्‍यकता नहीं है. कम रुपयों में आने वाली छोटी चक्‍की से ही काम चल जाएगा. पौष्टिक आटे की यूनिट बनाने के लिए ज्‍यादा जगह की भी आवश्‍यकता नहीं होगी, क्‍योंकि आटा चक्‍की ज्‍यादा जगह नहीं घेरती है.

SBI के साथ करें ये काम, कमाएं प्रति माह 60,000 रुपये

इसका सबसे प्रमुख कच्‍चा माल गेहूं होता है. अच्‍छी क्‍वालिटी का गेहूं बहुत ज्‍यादा महंगा नहीं आता और न ही एक साथ पूरे साल का गेहूं लेने की आवश्‍यकता होती है. शुरुआत में हम एक महीने का गेहूं और अन्‍य सामग्री लेकर व्‍यवसाय शुरू कर सकते हैं. एक लाख रुपये में बहुत अच्‍छी पौष्टिक आटा बनाने की यूनिट लगाई जा सकती है.

कमाई

यह आटा थोक भाव में 50 रुपये, जबकि रिटेल में 60 रुपये के भाव में बिकेगा. इसकी लागत 30-35 रुपये तक आएगी. पांच रुपये मार्केटिंग पर खर्च हो जाएंगे. इस तरह से दस रुपये प्रति किलो की बचत होगी. एक लाख रुपये लगाकर इसे शुरू किया जा सकता है और 40,000-50,000 रुपये तक हर महीने कमाई हो सकती है. साल की कमाई लाखों में होगी.

यहां से लें सहायता

पौष्टिक आटा तैयार करने से पहले इसके फार्मूलेशन में सेंट्रल फूड टेक्नोलॉजिकल रिसर्च इंस्टीटीट्यूट-मैसूर और नेशनल इंस्टीटीट्यूट ऑफ फूड टेक्नोलॉजी एंड इंटरप्रेन्योरशिप मैनेजमेंट, कुंडली-हरियाणा से सहयोग लिया जा सकता है. खादी और ग्रामोद्योग आयोग से रजिस्ट्रेशन और फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया से लाइसेंस लिया जा सकता है.

सरकार करेंगी मदद

पौष्टिक आटा तैयार करने से पहले खादी और ग्रामोद्योग आयोग से रजिस्ट्रेशन और फूड सेफ्टी एंड स्टैंडर्ड अथॉरिटी ऑफ इंडिया से लाइसेंस लिया जा सकता है. उसके बाद बैंक लोन लेकर काम शुरू कर सकते है। इस लोन पर सरकार सब्सडी देती है.