सोम. जुलाई 22nd, 2024

Tigri Ganga Mela 2022: इस बार तिगरी गंगा मेले में जाम की समस्या से नहीं परेशान होगे श्रद्धालु, प्रशासन ने बनाया प्लान

Tigri Ganga Mela 2022
Tigri Ganga Mela 2022:

अमरोहा। जिलाधिकारी ने आने वाले तिगरी गंगा मेला-2022 Tigri Ganga Mela 2022:की तैयारी की समीक्षा की । इस दौरान मौजूद अधिकारियों को मेले की तैयारियों तेज करने के निर्देश दिये है।

समीक्षा बैठक के दौरान क्षेत्र के विधायक राजीव तरारा ने कहा कि सभी विभागों को अलग-अलग जिम्मेदारी दी गई इसलिये जिम्मेदारी को ठीक से निभायें ताकि मेले को अधिक भव्य व दिव्य मनाया जा सके। उन्होने कहा कि ग्रामीणवासी व प्रशासन का पूर्ण सहयोग करेगें यह आश्वासन है। यातायात को और अच्छे से तैयारी करे ंताकि किसी भी प्रकार का जाम न लगे सभी मिलकर कार्य करेगें ऐसी आशाा व्यक्त की है।
जिलाधिकारी ने कहा कि प्रत्येक अधिकारी को जो उत्तरदायित्व दिये गये है उनके अनुसार समय से पूर्व अपने कार्य कर लें, जिससे मेले की व्यवस्था सुचारू रूप से हो सके। उन्होने कहा कि आपस में समन्वय स्थापित कर सभी लोगों को मिलकर कार्य करना है। जिलाधिकारी ने कहा कि मेले को पिछली बार की अपेक्षा और अधिक बेहतर करने के लिये सभी आवश्यक मानक अपनायें जायें। जिलाधिकारी ने कहा कि तिगरी मेले स्थल पर जो फसलें है उन्हें नोटिस देकर तत्काल हटवाने का कार्य करें क्योकि समय कम है मेले की तैयारियां ज्यादा है इसलिये जल्दी से जल्दी फसल हटवाई जाये। उन्होने कहा मेले मे सहयोग के लिये स्थानीय लोगों की कमेटी बना लें।

ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Group को Join करें
ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Whatsapp Channel को Follow करें
ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Group को Join करें

जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि मेले में टैन्ट, दुकानों को इस तरह तैयार किया जाये, जिससे मेले में आने वाले श्रद्धालुओं को कोई परेशानी न हो। रास्तंे में डायवर्जन की सुविधा की जानी चाहिए। तिगरी मेले में सफाई व्यवस्था के लिए पर्याप्त सफाई कर्मियों की व्यवस्था की गई है,जिसे जिला पंचायत अधिकारी देखेगें। जिलाधिकारी ने कहा कि प्रकाश की उचित व्यवस्था की जाये। उन्होने कहा कि मेले के अन्तिम छोर तक प्रकाश की व्यवस्था दुरूस्त होनी चाहिए ताकि श्रद्धालुओं को कठिनाई का सामना न करना पडे़ जिलाधिकारी ने कहा कि स्नान घाट निर्माण के सम्बन्ध में कहा कि महिला घाटों का निर्माण आधुनिक तकनीक से कराने की व्यवस्था की जाये।

जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि मेले में स्वास्थ्य चिकित्सा, पशु चिकित्सा के व्यापक इंतजाम किये जाने चाहिए। स्वास्थ्य विभाग की ओर से मेले के दौरान अस्थाई अस्पताल का संचालन होगा, जिसमें पर्याप्त मात्रा में डाक्टर, नर्स एवं एम्बुलेंस की सुविधा रहेगी। मंे 24 घंटे चिकित्सा व्यवस्था, औषधि उपकरण आदि चिकित्सा की सेवायें उपलब्ध रहेगी। मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने कहा कि तिगरी सी.एच0सी0 और मेला क्षेत्र में भी चिकित्सा व्यवस्था उपलब्ध रहेगी। उन्होने कहा कि मेला स्थल पर कीट नाशक दवाओं का छिड़का किया जायेगा।

उन्होने कहा कि सफाई व्यवस्था के पुख्ता इंतजाम किये जायें। शौचालयों का निर्माण व्यापक पैमाने पर किया जाना चाहिए। जंहा पर शौचालयो का निर्माण किया जाये, वंहा पर पानी की व्यवस्था पर्याप्त मात्रा में अवश्य की जाये। जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि शौचालयों में प्रतिदिन चूने के छिड़काव किया जाये।

पेयजल व्यवस्था के सम्बंध में उन्होने जल निगम को शुद्ध पेय जल के पुख्ता इंतजाम करने के निर्देश दिये। उन्होने कहा कि नलों के पानी की गुणवत्ता की जांच करा लें और जिला पंचायत की ओर से 1200 हैण्डपम्प लगायें जायेगें। जिलाधिकारी ने लोक निर्माण विभाग को निर्देश दिये हैं कि मेला प्रारम्भ होने से पहले सभी मार्गों का निरीक्षण कर लिया जाये। मार्ग में पड़ने वाले गडढों को गडढा मुक्त कर दिया जाये, ताकि आने वाले वाहनो के आवागमन में कठिनाई न हो।
जिलाधिकारी ने निर्देश दिये कि मेंले दूरसंचार व्यवस्था दुरूस्त होनी चाहिए। जगह -जगह पर टेलीफोन बूथ बनायें जायें जिससे श्रद्धालुओं को परेशानी का सामना न करना पड़े। उन्होने कहा कि टैम्परेरी टावर लगाये जायें। जिलाधिकारी ने स्थाई टावर के निर्माण के भी निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने दुग्ध विभाग को निर्देश दिये कि मेले में दूध की सप्लाई की व्यवस्था व्यापक पैमाने पर होनी चाहिए, दूध की सप्लाई बूथ बनाकर की जानी चाहिए।
जिलाधिकारी ने मेले में कानून एवं शान्ति व्यवस्था बनाये रखने के लिए पुलिस सख्त दिशा निर्देश दिये। उन्होने कहा कि सुरक्षा व्यवस्था में कोई कोताही न बरती जाये। उन्होने अग्नि शमन विभाग को भी पुख्ता इंतजाम करने के निर्देश दिये। जिलाधिकारी ने मेले में मांस, मदिरा व अन्य मादक वस्तुओं के सेवन को प्रतिबन्धित किया।

जिलाधिकारी ने मेले में पर्याप्त मात्रा में नाव, मल्लाह व गोताखोरों के व्यापक इन्तजाम करने के निर्देश दिय। उन्होने कहा कि गोताखोरों को पहले से ही चिन्हित कर, उनका मोबाईल नम्बर नोट कर लिया जाये। उन्होने कहा कि गहरे स्थान को चिन्हित कर उसकी बेरिकेटिंग की जाये। पॉलीथीन का उपयोग पूर्णतयः वर्जित होगा।

बैठक के उपरान्त जिलाधिकारी ने गंगा समिति की बैठक में निर्देष देते हुये कहा कि तिगरी मेले में सफाई, सांय को गंगा आरती का आयोजन, वृक्षारोपण करने वाले विभागों द्वारा जियो टैगिंग की समीक्षा की । उन्होने कहा कि जिन विभागों द्वारा जियो टैगिंग का कार्य पूर्ण नही किया गया है वे एक सप्ताह के अन्दर जियो टैगिंग अवश्य पूर्ण कर लें।

बैठक में अपर जिलाधिकारी (न्यायिक) मायाशंकर, जिला विकास अधिकारी, एसडीएम धनौरा राजीव राज, अपरमुख्य अधिकारी जिला पंचायत, जिलापूर्ति अधिकरी, जिलावनाधिकारी, जिला मुख्य पशु चिकित्साधिकारी, अधिशासी अभियन्ता पीडब्ल्यूडी, अधिशासी अभियन्ता बाढ़ खण्ड, मेला समिति के सदस्यगण आदि सहित अन्य जिला स्तरीय अधिकारी उपस्थित थे।

By Bhoodev Bhagalia

जागरूक यूथ न्यूज डिजिटल में सीनियर डिजिटल कंटेंट प्रोड्यूसर है। पत्रकारिता की शुरुआत हिन्दुस्तान अखबार, अमर उजाला, समर इंडिया होते हुए जागरूक यूथ न्यूज में पहुंचा। लगातार कुछ अलग और बेहतर करने के साथ हर दिन कुछ न कुछ सीखने की कोशिश। राजनीति, अपराध और पॉजिटिव खबरों में रुचि।

Related Post

प्रातिक्रिया दे

आपका ईमेल पता प्रकाशित नहीं किया जाएगा. आवश्यक फ़ील्ड चिह्नित हैं *