Sat. Aug 13th, 2022
job jagrukyouthnews

नई दिल्ली। नेटवर्क

बीते दो सालों से कोरोना की वजह से नई जॉब नहीं निकल रही थी। कोरोना से राहत मिलने के बाद कई कंपनियों अगले तीन महिनों में बंपर नौकरी निकाले जा रही है। जिसमें आईटी IIT, प्रौद्योगिकी, रेस्टोरेंट और होटल सेक्टर, शिक्षा, स्वास्थ्य, एनजीओ, मीडिया सहित सरकारी नियुक्ति निकलने वाली है। आने वाले महीनों में भारतीय कंपनियां तेजी से हायरिंग करने वाली हैं। यानी आने वाली महीनों में देश में बंपर नौकरियां आने वाली हैं।

मोबाइल से इन बेवसाइडों के साथ करें ऑनलाइन काम, कमाएं हजारों

मैनपावरग्रुप की रिपोर्ट के मुताबिक, भारत में 38 फीसदी कंपनियां अगले तीन महीने में और भर्तियां करने की योजना बना रही हैं। इस तरह अप्रैल-जून तिमाही के दौरान कंपनियां नियुक्ति गतिविधियां तेज करने वाली हैं। मैनपावरग्रुप रोजगार सर्वे के 60वें सालाना संस्करण में कहा गया है कि अप्रैल-जून तक भारतीय कंपनियां तेज गति से प्रोफेशनल की भर्ती करने वाली हैं।

बीते तिमाही से ज्यादा निकलेगी जॉब

सर्वे के मुताबिक, विभिन्न क्षेत्रों में नियुक्ति गतिविधियां पिछले वर्ष की समान अवधि के मुकाबले अधिक मजबूत हैं। हालांकि, तिमाही के आधार पर देखें तो जनवरी-मार्च तिमाही के मुकाबले अप्रैल-जून में रोजगार में 11 फीसदी की कमी देखने को मिल सकती है।


बढ़ सकता है पेरोल
अप्रैल-जून तिमाही के लिए 55 फीसदी कंपनियों ने कहा कि कर्मचारियों का पेरोल बढ़ सकता है. 17 फीसदी का कहना है कि इसमें कमी आ सकती है, जबकि 36 फीसदी की मानें तो पेरोल में कोई बदलाव नहीं होगा. कुल मिलाकर शुद्ध रोजगार परिदृश्य 38 फीसदी है।

जॉब केअपडेट पाने के लिये फेसबूक पेज को लाइक करें- facebook.com/Jagruk-Youth-News

जॉब केअपडेट पाने के लिये ग्रुप को ज्वाइन करें…  whatsapp.com/group

इन सेक्टर में सबसे ज्यादा जॉब Job
सर्वे के मुताबिक, आईटीIIT और प्रौद्योगिकी भूमिकाओं में अप्रैल-जून तिमाही में 51 फीसदी ज्यादा भर्तियां होंगी, रेस्टोरेंट और होटल सेक्टर Hotel Sector में 38 फीसदी नौकरियां मिलेंगी, जबकि शिक्षा, स्वास्थ्य, सामाजिक कार्य और सरकारी नियुक्ति संबंधी परिदृश्य 37 फीसदी है।

पढ़ाई के लिये इन छात्रों को मिलेंगे सालाना 6000, इस तरह करना होगा आवेदन

महिलाओं की हिस्सेदारी चिंताजनक
मैनपावरग्रुप के समूह एमडी संदीप गुलाटी का कहना है कि देश महामारी के असर से बाहर आ रहा है, लेकिन वैश्विक भू-राजनीतिक अस्थिरता और बढ़ती महंगाई जैसी नई चुनौतियां आ खड़ी हुई हैं। उन्होंने कहा कि कार्यबल में महिलाओं का प्रतिनिधित्व अभी भी चिंता का विषय बना हुआ है।