Sun. Jun 23rd, 2024

चंद्रशेखर आजाद की जीत ने बढ़ा दी BSP की टेंशन, क्या दलितों को मिला नया मसीहा?

chandra-shekhar
chandra-shekhar

नई दिल्ली। चंद्रशेखर आजाद ने कांशीराम को अपना आदर्श बनाया और अपनी पार्टी का नाम आजाद समाज पार्टी (कांशीराम) रखा. वह मायावती के दलित वोट बैंक, जिस पर वह यूपी में अपना अधिकार रखने का दावा करती थीं, उसी में सेंध लगा दी.

 

ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Group को Join करें
ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Whatsapp Channel को Follow करें
ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Group को Join करें
chandra-shekhar
chandra-shekhar

लोकसभा चुनाव में उत्तर प्रदेश की जिस सीट पर सबसे ज्यादा लोगों की निगाहें टिकी हुई थी, वह नगीना लोकसभा सीट थी. इस सीट पर भाजपा के ओम कुमार का सीधा मुकाबला आजाद समाज पार्टी (कांशी राम) के उम्मीदवार चंद्रशेखर आजाद से था.

 

वैसे आपको बता दें कि यह सीट इंडिया अलायंस के सहयोगी दल समाजवादी पार्टी के हिस्से में आई थी और सपा ने इस पर अपनी पार्टी से मनोज कुमार को उम्मीदवार बनाया था. वहीं इस सीट पर बसपा ने भी सुरेंद्र पाल सिंह को रावण से मुकाबले के लिए उतारा था.

mayawati
इसी सीट पर जोगेंद्र और संजीव कुमार दो स्वतंत्र उम्मीदवार के तौर पर मैदान में थे. यहां इन दोनों स्वतंत्र उम्मीदवार को नोटा से भी कम वोट हासिल हुए. जबकि, मायावती की पार्टी बसपा का उम्मीदवार चौथे और समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार तीसरे नंबर पर रहे. चंद्रशेखर आजाद ने भाजपा के ओम कुमार को कड़ी टक्कर देते हुए इस सीट पर 1,51,473 से ज्यादा वोटों के अंतर से जीत दर्ज की है.

आपको बता दें कि इस सीट को लेकर सबसे दिलचस्प बात यह रही है कि इस सीट पर चंद्रशेखर आजाद ने ना तो विपक्ष के इंडिया गठबंधन के साथ लड़ना स्वीकार किया और ना ही बसपा के साथ वह मैदान में उतरने के लिए तैयार हुए.

 

 

By Bhoodev Bhagalia

जागरूक यूथ न्यूज डिजिटल में सीनियर डिजिटल कंटेंट प्रोड्यूसर है। पत्रकारिता की शुरुआत हिन्दुस्तान अखबार, अमर उजाला, समर इंडिया होते हुए जागरूक यूथ न्यूज में पहुंचा। लगातार कुछ अलग और बेहतर करने के साथ हर दिन कुछ न कुछ सीखने की कोशिश। राजनीति, अपराध और पॉजिटिव खबरों में रुचि।

Related Post