Wed. Aug 10th, 2022
pm kisan samman nidhi

लखनऊ। नेटवर्क

केंद्र सरकार किसानों के कल्याण के लिये किसान सम्मान निधि योजन kisan-samman-nidhi के माध्यम से प्रति वर्ष छह हजार रूपये उनके खाते में भेज रही है। ऐसे में यूपी के कृषि मंत्री ने बताया कि अब प्रदेश में बगैर ई-के.वाई.सी. ekyc के किसान सम्मान निधि kisan-samman-nidhi नहीं मिलेगी। अब तक 1 करोड़ 66 लाख किसानों की ई-के.वाई.सी. हो चुकी है।

यह जानकारी प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही ने शुक्रवार को यहां प्रेसवार्ता में दी। लोकभवन में हुई इस प्रेसवार्ता में कृषि मंत्री ने कहा कि कुछ किसानों के पंजीकरण तीन-तीन, चार-चार जगह से हुए हैं, ऐसे भी मामले सामने आ रहे हैं जिनमें किसान की मृत्यु हो चुकी है और अब भी उनके खाते में किसान सम्मान निधि की राशि जा रही है। अब योजना के सभी लाभार्थी किसानों के आधार को लिंक किया जा रहा है। इसके साथ योजना का सोशल आडिट भी करवाया जा रहा है। इससे अपात्र, आयकरदाता, मृतक किसानों की जानकारी सामने आ रही है।

उन्होंने बताया कि योजना से नये पात्र किसान जोड़े भी जा रहे हैं। अपने विभाग के 100 दिनों के कामकाज और उपलब्धियों की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए क्लस्टर बनाए जाएंगे। 710 हेक्टेयर क्षेत्रफल में 1700 क्लस्टर बनाए जाएंगे। साथ ही गंगा के दोनों किनारों के पांच-पांच किलोमीटर के दायरे में प्राकृतिक खेती करवाई जाएगी।

उन्होंने बताया कि कृषि विभाग के 133 फार्म हाऊस, पांच कृषि विश्वविद्यालयों तथा 89 कृषि विज्ञान केन्द्रों को गो आधारित प्राकृतिक खेती के मॉडल तैयार करने के निर्देश दिये गये हैं। इसके अलावा सोलर पम्प वितरण के लिए दस हजार किसानों का चयन कर लिय गया है। प्रेसवार्ता में कृषि राज्य मंत्री बलदेव सिंह औलख, अपर मुख्य सचिव कृषि डा.देवेश चतुर्वेदी, कृषि निदेशक विवेक सिंह, संयुक्त कृषि निदेशक प्रसार आर.के.सिंह मौजूद थे।