Sun. Jun 23rd, 2024

अब इन किसानों को नहीं मिलेगा किसान सम्मान निधि kisan-samman-nidhi का लाभ, कृषि मंत्री ने बताया वजह

pm kisan samman nidhi
pm kisan samman nidhi

लखनऊ। नेटवर्क

केंद्र सरकार किसानों के कल्याण के लिये किसान सम्मान निधि योजन kisan-samman-nidhi के माध्यम से प्रति वर्ष छह हजार रूपये उनके खाते में भेज रही है। ऐसे में यूपी के कृषि मंत्री ने बताया कि अब प्रदेश में बगैर ई-के.वाई.सी. ekyc के किसान सम्मान निधि kisan-samman-nidhi नहीं मिलेगी। अब तक 1 करोड़ 66 लाख किसानों की ई-के.वाई.सी. हो चुकी है।

ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Group को Join करें
ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Whatsapp Channel को Follow करें
ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Group को Join करें

यह जानकारी प्रदेश के कृषि मंत्री सूर्यप्रताप शाही ने शुक्रवार को यहां प्रेसवार्ता में दी। लोकभवन में हुई इस प्रेसवार्ता में कृषि मंत्री ने कहा कि कुछ किसानों के पंजीकरण तीन-तीन, चार-चार जगह से हुए हैं, ऐसे भी मामले सामने आ रहे हैं जिनमें किसान की मृत्यु हो चुकी है और अब भी उनके खाते में किसान सम्मान निधि की राशि जा रही है। अब योजना के सभी लाभार्थी किसानों के आधार को लिंक किया जा रहा है। इसके साथ योजना का सोशल आडिट भी करवाया जा रहा है। इससे अपात्र, आयकरदाता, मृतक किसानों की जानकारी सामने आ रही है।

उन्होंने बताया कि योजना से नये पात्र किसान जोड़े भी जा रहे हैं। अपने विभाग के 100 दिनों के कामकाज और उपलब्धियों की जानकारी देते हुए उन्होंने कहा कि प्राकृतिक खेती को बढ़ावा देने के लिए क्लस्टर बनाए जाएंगे। 710 हेक्टेयर क्षेत्रफल में 1700 क्लस्टर बनाए जाएंगे। साथ ही गंगा के दोनों किनारों के पांच-पांच किलोमीटर के दायरे में प्राकृतिक खेती करवाई जाएगी।

उन्होंने बताया कि कृषि विभाग के 133 फार्म हाऊस, पांच कृषि विश्वविद्यालयों तथा 89 कृषि विज्ञान केन्द्रों को गो आधारित प्राकृतिक खेती के मॉडल तैयार करने के निर्देश दिये गये हैं। इसके अलावा सोलर पम्प वितरण के लिए दस हजार किसानों का चयन कर लिय गया है। प्रेसवार्ता में कृषि राज्य मंत्री बलदेव सिंह औलख, अपर मुख्य सचिव कृषि डा.देवेश चतुर्वेदी, कृषि निदेशक विवेक सिंह, संयुक्त कृषि निदेशक प्रसार आर.के.सिंह मौजूद थे।

By Bhoodev bhagalia

Bhoodev भूदेव जागरूक यूथ न्यूज अखबार व वेबसाइड में सीनियर कंटेंट एडिटर के पद पर कार्यरत है। पिछले 10 वर्षों से मीडिया क्षेत्र प्रिन्ट और डिजिटल में काम कर रहे है। पत्रकारिता में पोस्ट ग्रेजुएशन करने के बाद अपने करियर की शुरूआत वर्ष 2012 में हिन्दुस्तान समाचार पत्र मुरादबाद से की। इसके बाद अमर उजाला में भी अपनी सेवाएं दी। प्रिंट मीडिया में रहते हुए डेस्क और न्यूज एडिटिंग में काफी समय तक काम किया है।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *