Sun. Jun 23rd, 2024

किसानों को यूपी सरकार दे रही है 12000 वार्षिक पेंशन, करें ऑनलाइन आवेदन

लखनऊ: नेटवर्क


यूपी सरकार किसानों के लिये कई कल्याणकारी योजनाएं चला रही है। जिसके माध्यम से गरीब किसानों को उसका लाभ मिल रहा है।समाज कल्याण विभाग अब बुजुर्गों व किसानों के लिए वृद्धावस्था/किसान पेंशन योजना चला रही है।

ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Group को Join करें
ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Whatsapp Channel को Follow करें
ऐसी खबरें पढ़ने के लिये Group को Join करें

इस योजनान्तर्गत 60 वर्ष से अधिक आयु के ऐसे स्त्री-पुरूष जिनकी वार्षिक आय ग्रामीण क्षेत्र में 46080 रूपये व शहरी क्षेत्र में 56460 रूपये तक के असहाय, वृद्ध गरीबी रेखा के नीचे जीवनयापन करने वाले लोग पेंशन पाने के पात्र हैं। इस आयु एवं आय सीमा के अन्तर्गत आने वाले वृद्ध किसान भी पात्र होते हैं। गरीबी रेखा के नीचे जीवनयापन करने वाले बुजुर्गों को प्रदेश सरकार पेंशन देकर उन्हें आत्मनिर्भर बना रही है।


प्रदेश सरकार की वृद्धावस्था/किसान पेंशन योजनान्तर्गत लाभार्थियों का चयन ग्रामीण स्तर पर ग्राम पंचायत की खुली बैठक में होता है। ग्राम पंचायत द्वारा प्रस्ताव खण्ड विकास अधिकारी कार्यालय के माध्यम से जिला समाज कल्याण अधिकारी कार्यालय को भेजा जाता है। इस योजनान्तर्गत लाभ पाने के लिए आवेदन ऑनलाइन भी किया जाता है।

प्रदेश सरकार के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ जी का ध्येय है कि प्रदेश के सभी पात्रों को इस पेंशन योजना का लाभ मिले। यही कारण है कि जहां वर्ष 2017-18 में 3747321 लाभार्थी थे वही वर्ष 2021-22 में 56 लाख लाभार्थी हो गये हैं। वर्तमान सरकार के कार्यकाल में पात्र 18.53 लाख नवीन पेंशनरों को लाभान्वित किया जा रहा है।

सभी पात्र लाभार्थियों को पेंशन देने के लिए सरकार ने वर्ष 2021-22 में 427752.59 लाख रूपये व्यय किया है। प्रदेश के मुख्यमंत्री जी ने कोरोना काल में सभी पेंशनार्थियों को एडवांस में पेंशन भिजवाया था, जिससे लाभार्थियों को किसी प्रकार की आर्थिक समस्या नहीं आई। सरकार की इस योजना से प्रदेश के निःसहाय, निराश्रित, सभी पात्र गरीबों का लाभान्वित किया जा रहा है। एक वर्ष में 12,000 रूपये पाकर पेंशनार्थियों को आर्थिक स्थिति मजबूत हुई है और वे आत्मनिर्भर हुए हैं।

ऑनलाइन आवेदन करने के लिये आवश्यक दस्तावेज

ऑनलाइन आवेदन करते समय लाभार्थी का फोटो, जन्म/आयु प्रमाण पत्र, पहचान प्रमाण पत्र (वोटर आई0डी0/आधार कार्ड/राशन कार्ड) बैंक पासबुक की फोटोकापी, निवास व आय प्रमाण पत्र लगाना पड़ता है। प्रदेश सरकार अब सभी पेंशन के पात्रों के आवेदन विभाग की बेवसाइड पर https://sspy-up.gov.in/ ऑनलाइन भरने पर बल दे रही है।


ऑनलाइन आवेदन करने से आवेदन पत्र सम्बंधित कार्यालय में समय से व निश्चितता के साथ पहुंचता है। इस प्रक्रिया से आवेदन पत्र प्राप्त होने की निश्चितता रहती है। पेंशन के प्राप्त प्रस्ताव को जांचोपरान्त मंजूर करते हुए समाज कल्याण विभाग द्वारा सम्बंधित लाभार्थी के बैंक खाते में 1000 रूपये प्रतिमाह की दर से पेंशन भेजी जाती है।


शहरी क्षेत्र को मिलता है लाभ
शहरी क्षेत्रों में सम्बंधित उपजिलाधिकारी/सिटी मजिस्ट्रेट के माध्यम से आनॅलाइन प्राप्त आवेदन पत्रों का चयन करते हुए समाज कल्याण विभाग को पात्रों की सूची व आवेदन पत्र भेजे जाते हैं, जहां से उन्हें प्रतिमाह 1000 रूपये की दर से सालाना 12000 रू0 पेंशन दी जा रही है।


वृद्धावस्था/किसान पेंशन योजनान्तर्गत 60 वर्ष से 79 वर्ष तक की आयु के पेंशनरों को रू0 1000 प्रतिमाह की दर से दी जा रही पेंशन में रू0 800 राज्यांश एवं 200 रू0 केन्द्रांश होता है। इसी प्रकार 80 वर्ष या उससे अधिक आयु के वृद्धजनों को दी जा रही 1000 रू0 की पेंशन का रू0 500 राज्यांश व 500 रू0 केन्द्र सरकार द्धारा वहन किया जाता है।

इस खबर को शेयर करें-

By Bhoodev Bhagalia

जागरूक यूथ न्यूज डिजिटल में सीनियर डिजिटल कंटेंट प्रोड्यूसर है। पत्रकारिता की शुरुआत हिन्दुस्तान अखबार, अमर उजाला, समर इंडिया होते हुए जागरूक यूथ न्यूज में पहुंचा। लगातार कुछ अलग और बेहतर करने के साथ हर दिन कुछ न कुछ सीखने की कोशिश। राजनीति, अपराध और पॉजिटिव खबरों में रुचि।

Related Post

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *